English
उत्‍तर प्रदेश खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड

उत्तर प्रदेश सरकार

प्रशिक्षण योजना

उ०प्र० खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा संचालित की जा रही कौशल सुधार प्रशिक्षण योजना आयोजनागत मद में प्रारम्भ हुई। योजनान्तर्गत चयनित उद्यमियों को उनमें निहित कौशल के विकास हेतु कौशल सुधार प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। कौशल सुधार प्रशिक्षण योजनान्तर्गत स्किल अपग्रेडेशन एण्ड प्रमोशन हेतु 15 दिवसीय प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। इसके अन्तर्गत लाभार्थियों को उत्पादन प्रक्रिया से लेकर बिक्री करने तक की पूर्ण जानकारी दी जाती है ताकि वह अपना स्वरोजगार आसानी से स्थापित कर सके। यह प्रशिक्षण इस उद्देश्य के साथ संचालित किया जाता है कि उद्यमी इसके माध्यम से अपने कौशल में विकास कर अपना रोजगार स्वयं की पूँजी से या सरकारी एजेन्सी से वित्तीय सहायता प्राप्त कर उद्योग स्थापित कर सकें जिससे उनका आर्थिक विकास सम्भव हो, तथा आधुनिक तकनीक एवं कौशल वृद्धि से नये, अच्छे एवं गुणवत्तायुक्त उत्पाद बनाकर स्थानीय एवं अन्य क्षेत्रों में बिक्री कर आत्मनिर्भर हो सके।

कौशल सुधार प्रशिक्षण योजनान्तर्गत जनपद स्तरीय कमेटी द्वारा चयनित प्रशिक्षार्थियों को उनकी मांग के अनुरूप निम्न ट्रेडों में उनकी सुविधानुसार जिला ग्रामोद्योग अधिकारी द्वारा चयनित स्थान पर कुशल ट्रेनर के माध्यम से प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित किये जाते हैं-

  • मौनपालन एग्रोबेस्ड ट्रेड, फल प्रशोधन, मसाला, पापड़, बड़ी एवं अन्य खाद्य प्रसंस्करण
  • दरी एवं कारपेट बुनाई/रेशा उद्योग
  • पाटरी, अगरबत्ती, मोमबत्ती एवं चाक मेकिंग
  • कटिंग टेलरिंग/जरी कढ़ाई
  • हाथ कागज की निर्मित उपयोगित वस्तुएं
  • डिटर्जेन्ट पाउडर
  • चर्म निर्मित उपयोगी वस्तुएं
  • बॉसबेंत
  • इलेक्ट्रिकल एवं इलेक्ट्रिानिक्स उद्योग, सेवा उद्योग आदि।

योजना का क्रियान्वयन बोर्ड द्वारा निम्नानुसार संचालित 10 मण्डलीय ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केन्द्रों के माध्यम से प्रदेश के समस्त जनपदों में किया जा रहा है-

क्र०सं० प्रशिक्षण केन्द्र का नाम अधिकारी का नाम अधिकारी का फोन नम्बर
1 मण्डलीय ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केन्द्र, डालीगंज लखनऊ श्री अश्वनी कुमार 7408410829
2 मण्डलीय ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केन्द्र, गोरखपुर श्री आर०एस०श्रीवास्तव 7408410790
3 मण्डलीय ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केन्द्र, बहराइच श्री पी०एन०सिंह 7408410825
4 मण्डलीय ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केन्द्र, अनुवां-इलाहाबाद श्री अभय त्रिपाठी 7703006954
5 मण्डलीय ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केन्द्र, आहोपट्टी-आजमगढ़ श्री वीरेन्द्र प्रसाद 7408410721
6 मण्डलीय ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केन्द्र, रतनपुरा-मऊ श्री शशिभूषण ठाकुर 7703006962
7 मण्डलीय ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केन्द्र, कालपी-जालौन श्री मनोज दिवाकर 7408410796
8 मण्डलीय ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केन्द्र, पिपरौला- शाहजहॉपुर श्रीमती तनुजा 7408410834
9 मण्डलीय ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केन्द्र, अडिंग-मथुरा श्री श्रेयस तिवारी 7408410836
10 मण्डलीय ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केन्द्र, नजीबाबाद-बिजनौर श्री उमेन्द्र चिकारा 740840837

उपरोक्त कम में चालू वित्तीय वर्ष 2016-17 में शासन द्वारा निम्नानुसार मदों लाभार्थियों के प्रशिक्षण हेतु प्राविधानित बजट के सापेक्ष वित्तीय स्वीकृति जारी की गयी है।

  1. कौशल सुधार प्रशिक्षण योजना (सामान्य) (अनुदान सं०-05 आयोजनेत्तर मद)
    सामान्य वर्ग के लाभार्थियों को कौशल सुधार प्रशिक्षण हेतु शासन द्वारा रू० 100.00 लाख की वित्तीय स्वीकृति जारी की गयी थी। उक्त धनराशि के सापेक्ष निर्धारित लक्ष्य 2500 में से सम्बन्धित प्रशिक्षण केन्द्र के प्राचार्य द्वारा माह-फरवरी तक 1750 लाभार्थियों को प्रशिक्षित किया जा चुका है और शेष प्रशिक्षण का लक्ष्य इस माह के अन्त तक पूर्ण कर लिया जायेगा।
    उक्त बजट की धनराशि में से 20 प्रतिशत धनराशि को शासनादेशानुसार अल्पसंख्यक वर्ग के लोगों के प्रशिक्षण हेतु मात्राकृत किये जाने की व्यवस्था है, तदनुसार अनुपालन सुनिश्चित किया जाता है।
  2. कौशल सुधार प्रशिक्षण योजना (एस०सी०एस०पी०) (अनुदान सं०-83 योजनागत मद)
    इस योजनान्तर्गत अनुसूचित जाति के लाभार्थियों को कौशल सुधार प्रशिक्षण हेतु शासन द्वारा रू० 300.00 लाख की वित्तीय स्वीकृति जारी की गयी थी। उक्त धनराशि के सापेक्ष निर्धारित लक्ष्य 7500 में से समस्त प्रशिक्षण केन्द्र के प्राचार्य द्वारा माह-फरवरी-17 तक 6175 लाभार्थियों को प्रशिक्षित किया जा चुका है और शेष प्रशिक्षण का लक्ष्य इस माह के अन्त तक पूर्ण कर लिया जायेगा।
  3. कौशल सुधार प्रशिक्षण योजना (टी०एस०पी०) (अनुदान सं०-81योजनागत मद)
    इस योजनान्तर्गत अनुसूचित जनजाति बाहुल्य जनपदों में से जनपद-लखीमपुर-खीरी, पीलीभीत, श्रावस्ती एवं चन्दौली हेतु कुल इस वर्ग के लाभार्थियों को कौशल सुधार प्रशिक्षण हेतु शासन द्वारा रू० 4.08 लाख की वित्तीय स्वीकृति जारी की गयी थी। उक्त धनराशि के सापेक्ष निर्धारित लक्ष्य 102 लाभार्थियों में से सम्बन्धित प्रशिक्षण केन्द्र के प्राचार्यों द्वारा माह-फरवरी-17 तक 51 लाभार्थियों को प्रशिक्षित किया जा चुका है और शेष प्रशिक्षण का लक्ष्य इस माह के अन्त तक पूर्ण कर लिया जायेगा।
  4. व्यवहारिक प्रशिक्षण योजना (अनुदान सं०-05 आयोजनेत्तर मद)
    ग्रामोद्योग के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र के बेरोजगार युवकों को विभिन्न ग्रामोद्योगों में वित्त पोषण से पूर्व व्यवहारिक प्रशिक्षण (प्रबन्धन प्रशिक्षण) प्रदान करने के उद्देश्य से यह योजना शासन से स्वीकृत एवं संचालित है। यह योजना समस्त जनपदों में ग्रामीण क्षेत्र के उद्यमियों हेतु बोर्ड के प्रशिक्षण केन्द्रों के माध्यम से संचालित है। इस योजना में पात्र उद्यमियों/लाभार्थियों को प्रशिक्षण हेतु शासन द्वारा चालू वित्तीय वर्ष में रू० 50.00 लाख की वित्तीय स्वीकृति जारी की गयी है। उक्त धनराशि के सापेक्ष निर्धारित लक्ष्य 2500 में से सम्बन्धित प्रशिक्षण केन्द्र के प्राचार्यों द्वारा माह-फरवरी-17 तक 1575 लाभार्थियों को प्रशिक्षित किया जा चुका है और शेष प्रशिक्षण का लक्ष्य इस माह के अन्त तक पूर्ण कर लिया जायेगा।

    नोटः- उक्त योजनान्तर्गत में खादी सूत कताई, बुनाई आदि का प्रशिक्षण प्रदान नहीं कराया जाता है।

  5. अन्य सशुल्क प्रशिक्षण/उद्योग विशेस मे प्रशिक्षण विभागीय योजनाओं के अतिरिक्त प्रशिक्षण केन्द्रों के द्वारा उद्योग विषेश मे सशुल्क प्रशिक्षण भी कराये जाते है, जिसमे कम्प्यूटर प्रशिक्षण, सिलाई-कढाई, होजरी, ज्वैलरी मार्केट, चाक-बत्ती,बडी-पापड, मोमबत्ती, अगरबत्ती, अचार-मुरब्बा, फल प्रशोधन, इत्यादि में प्रशिक्षण कराये जाते है।
  6. पी.एम.ई.जी.पी. प्रशिक्षण भारत सरकार द्वारा संचालित पी.एम.ई.जी.पी. कार्यक्रम के अन्तर्गत प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। उक्त योजनान्तर्गत उन लाभार्थियों/उद्यमियों को प्रशिक्षण प्रदान कराया जाता है जिनके ऋण-आवेदन पत्र ऋणदाता बैको द्वारा स्वीकृत किये गये है। खादी बोर्ड के अलावा खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग तथा जिला उद्योग केन्द्र द्वारा ऋण स्वीकृत कराये गये अवेदको को भी प्रशिक्षण कराया जाता है।
  7. मण्डलीय ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केन्द्रों के अवस्थापना सुविधाओं के सुदृढीकरण योजना (अनुदान सं०-05 आयोजनागत मद)
    प्रशिक्षण केन्द्र लगभग 30 वर्ष से संचालित हैं, जो पुराने हो चुके हैं, प्रशिक्षण केन्द्रों की मरम्मत, रंगाई-पुताई व प्रशिक्षार्थियों के प्रशिक्षण में उपयोग हेतु उपकरण व अन्य आवश्यक सामग्री हेतु शासन द्वारा इस योजना के अन्तर्गत चालू वित्तीय वर्ष 2016-17 में रू० 5.00 लाख प्रति प्रशिक्षण केन्द्र की दर कुल रू० 50.00 लाख की वित्तीय स्वीकृति शासन द्वारा जारी की गयी थी, जिसे सम्बन्धित प्राचार्यों द्वारा आवश्यक मदों में व्यय किया जा रहा है।
  8. जनपद-कुशीनगर में खादी कॉमन फैसिलिटी सेन्टर की स्थापना योजना (अवस्थापना मद अनुदान सं०-05 आयोजनागत मद)
    चालू वित्तीय वर्ष में उक्त योजना में शासन द्वारा रू० 50.00 लाख का बजट प्राविधान उपरान्त वित्तीय स्वीकृति जारी की गयी है। इसके लिए नार्दन इण्डिया टेक्सटाइल्स रिसर्च एशोसिएशन (निट्रा) गाजियाबाद के माध्यम डी०पी०आर० तैयार कर शासन को आवश्यक कार्यवाही हेतु प्रेषित किया गया है।

    बोर्ड के पक्ष में निःशुल्क भूमि आवंटन भी हो चुका है। निर्माण कार्य उ०प्र० प्रोजेक्ट कारपोरेशन लि० द्वारा किया जा रहा है।